जिंदगी की राहें

जिंदगी की राहें

Followers

Friday, March 14, 2014

होली


होली का पर्व है अलबेला

है मस्ती भरा!!


जब भी आती है ये मनभावन होली

आता है याद

गाँव का कीचड़, साथ में गोबर, मिट्टी राख़ भी ...


जब भी आती है ये स्वादिष्ट होली

आता है मुंह में पानी

क्योंकि बनते ये घर घर में

मालपूआ, दहीबड़ा, गुजिया और बहुत से पकवान


जब भी आती है ये रोमांचक होली

मन के आंखो से दिख जाती है

माँ के उम्र की भौजियाँ

उनका रंगा हुआ गाल और खुद का छोटा सा

रंगो भरा हाथ


जब भी आती है ये यादगार होली

स्मृतियों मे होती है

मैया-बाबा को मेरा चरण-स्पर्श

अबीर-गुलाल के साथ

व माथे पर, मैया का प्रेम से अतिरेक चुम्मा


जब भी आती है रंग बिरंगी होली

दिख जाता है खुद का

झक्क सफ़ेद कुर्ता व पैजामा

और फिर उसके रंग जाने के कारण

मेरे बचपन की खीज और गुस्सा


जब भी आती है मस्त मस्त होली

तो आती है आवाज़

ढ़ोल मजीरे और भांग के साथ

मस्ती में गाते होली के गीत

खुशियाँ और संगीत


और अब जब भी आती है ये नशीली होली

होता है अपना

दो कमरे का घर

सिर्फ बीबी व बच्चो का साथ

थोड़ा अकेलापन, थोड़ा अनमनापन !! 


17 comments:

ANULATA RAJ NAIR said...

घर में कैद मत रहें......
गलियों की ख़ाक छानिये....बड़ी रंगीन है दुनिया!!
शुभकामनाएं रंगीले पर्व की!!...
सस्नेह
अनु

संजय भास्‍कर said...

बहुत सुन्दर...
होली मुबारक हो :-)

parul said...

बहुत सुंदर...होली शुभ हो!!

Unknown said...

Happy Holi!!!!!!!!!

Unknown said...

Happy Holi!!!!!!!!!

प्रवीण पाण्डेय said...

रंगों की मस्ती का त्योहार है होली।

सु-मन (Suman Kapoor) said...

बहुत बढ़िया ..होली की शुभकामनायें

सु-मन (Suman Kapoor) said...

बहुत बढ़िया ..होली की शुभकामनायें

sandhya jain said...

और अब जब भी आती है ये नशीली होली
होता है अपना
दो कमरे का घर
सिर्फ बीबी व बच्चो का साथ
थोड़ा अकेलापन, थोड़ा अनमनापन....बेहद सुंदर और सच्ची बात कहीं.....लाजवाब रचना :-)

ब्लॉग बुलेटिन said...


ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन संदीप उन्नीकृष्णन अमर रहे - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज रविवार (16-03-2014) को "रंगों के पर्व होली की हार्दिक शुभकामनाएँ" (चर्चा मंच-1553) पर भी है!
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
रंगों के पर्व होली की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

poonam said...

HAPPY HOLI

Dr ajay yadav said...

happy holi,
mangal kaamnayein
dr ajay

Unknown said...

bahut sundar rachana...yesi hi to hoti hai holi....shubhkamnayen....

Satish Saxena said...

मंगलकामनाएं आपको !!

सुशील कुमार जोशी said...

होली की हार्दिक शुभकामनाऐं ।

Yogi Saraswat said...

bahut badhiya , happy holi