Followers

Friday, February 27, 2015

क्लिक क्लिक क्लिक!


क्लिक क्लिक क्लिक!
कैमरे के शटर का क्लिक
तीन अलग अलग क्षण
सहज समेटे हुए परिदृश्य !
पहली तस्वीर
पूर्णतया प्राकृतिक व नैसर्गिक
कल कल करती जलधारा
चहचहाती चिरैया, फुदकती गोरैया
दूर तक दिखती हरियाली
डूबता दमकता गुलाबी सूरज
पैनोरमा मोड़ में
खिंची गयी कैमरे की क्लिक !!
दूसरा था कोलाज
एक ही गौरवर्ण युवती की
बहुत सी तस्वीरों को
हर ड्रेस में थी वो उत्तेजक
चेहरा भरा, आँखे चंचल
नजर आ रहे थे कटाव व भराव
तभी तो बिना फ़्लैश चमकाए
शायद बिना बताये भी
ली गयी थी तस्वीरें
दर्शा रही थी मादकता
कुछ पल को
कैमरा मैन बना था बदतमीज!!
था तीसरे क्लिक में
अम्मा के सीने से चिपका
स्तनपान करता छुटकू सा मासूम बच्चा
पल्लू को हटा कर निहार रहा
दुनिया ........
शायद भर चुका था उसका पेट
तभी तो हलकी मुस्कान के साथ
निहारा उसने
कैमरे के चमकते लेंस को
कैमरे के सेंटर फेस में नहीं थी महिला
न ही उसका उघड़ा बदन
बस दिख रहा था
खिलखिलाता बचपन
और खुश होती माँ!!
तस्वीरें झूठ नहीं बोलती
चाहे जो भी हो
हो उदास या मन हो चंचल !!
एक नन्हा जो
माँ के सुकून भरी बाहों में
भरे पेट के साथ
देख रहा हो सबको
नहीं हो सकता, उससे कोई बेहतर !! बेहतरीन क्लिक!!
___________________________
क्लिक क्लिक! smile emoticon

Thursday, February 12, 2015

क्षणिका


आईने में जब भी देखा 
तेरा अक्स 
लगाया काजल का टीका, 
माथे के बाएं कोने पर
आइने के उपर !
डर था कि कहीं,
नजर न लगे तुम्हे
या चकनाचूर हो जाये
आईना ............ !!
आईना मुझसे मेरी पहली सी सूरत मांगे .......


___________________________________

पुस्तक मेला !
मेले में हम 
मेले में मैं और तुम 
पढेंगे प्रेम गीत-कविता-गजल 
मैं इस स्टाल 
तुम दुसरे स्टाल !!
दो अनजाने प्यार में .....


__________________________________
हाँ दिखी थी 
नजरें भी मिली 
हाँ, पर दोनों आगे बढ़ गए 
डीवाईडर क्या न करवाए 
चाहतें मिलने की भी थी 
पर बहुत दूर तक
यु-टर्न नहीं था
आखिर कितनी दूर तक जाते ...........
पलटता चेहरा आगे कि ओर देखने लगा ... !!



चंद्रकांत देवताले हमिंग बर्ड के साथ

smile emoticon