जिंदगी की राहें

जिंदगी की राहें

Followers

Thursday, March 7, 2019

एक बोसा




केदारनाथ सिंह के प्रेम से लवरेज शब्दों को
याद करते हुए मैंने भी,
उसके हाथ को
अपने हाथ में लेते हुए सोचा
दुनिया को इस ख़ास हाथ की तरह 
गर्म और सुंदर होना चाहिए
पर सोच हाथों से होते हुए
रुकी उसके ठुड्डी पर
और फिर अटकी
उसके रहस्य से गहराते गालों के डिंपल पर
तत्क्षण वो मुस्काई
और मैंने भी कह ही दिया
दुनिया क्यों नहीं, इस तरह मुस्कुरा सकती
किसी की मुस्कुराहटों पे हो निसार
कहते हुए झाँकता चला गया
फिर उसकी आँखों में
वो बेपनाह गहराई वाली नजरों में
डूबते उतरते, महसूस पाया मैं
उन प्रेमसिक्त आंसुओं में नहीं था नमक
थी तो सिर्फ़ गंगा की पाकीज़गी
क्या दुनिया गंगा सी पवित्र नहीं हो सकती
चलो नहीं हो सकती तो क्या
उसकी आँखों में चमकती एक बूँद जो
पलकों से बस गिरने को थी,
और फिर आ गिरी मेरी उंगली पर
मैंने फिर उस ऊँगली को तिरछी कर
और उसमे से झांकते हुए उसको ही देखा
था एक प्रिज्मीय अनुभव
दुनिया सिमट चुकी थी
सतरंगे अहसास से इतर
एक चमकती शख़्सियत के रूप में, मेरे सामने
मैं फिर से बुदबुदाते हुए हौले से बोला
दुनिया तुम इसके जैसी बनो
मेरी दुनिया ने भी खुश होकर
मेरे बित्ते भर माथे पर
बस ले ही लिया
'एक बोसा'
~मुकेश~


Tuesday, February 5, 2019

बुशर्ट

ह्म्म्म!!
कड़क झक्क सफ़ेद
टंच बुशर्ट !! फीलिंग गुड !!
चुटकी भर रिवाइव पावडर
कुछ बूँद टिनोपाल व नील की
डलवा दी थी न !
कल पहन कर जब निकला था
था प्रसन्नचित
था पहना तने चमकते कॉलर के साथ
धुली सफ़ेद कमीज !!
दिन पूरा गुजरा
गरम ईर्ष्या व जलन भरा दिन
दर्द से लिपटी धूल के साथ
आलोचनाओं की कीचड़ को सहते हुए
हाँ, कुछ खुशियों के परफ्यूम की बूंदे भी
गिरी थी शर्ट पर !!
तभी तो रात तक
सफ़ेद से मटमैली हो गयी बुशर्ट !!
फिर भी मध्यमवर्गीय आदतें
दो दिन तो पहननी थी बुशर्ट !
जबकि कॉलर पर
हो गयी थी जमा
हर तरह की गन्दगी
दिखने लगी थी बदरंग !
कोई नही!!
स्नान कर , महा मृत्युंजय पाठ के साथ
लगा कर डीयों व उड़ेल कर पावडर
जब फिर से पहनी वही कमीज
तो, कॉलर के अन्दर का एक और अस्तर
चढ़ा दिया उसपर !!
अब तो जंच रहा हूँ न!
आखिर जीने के लिए
दोहरी जिंदगी जीनी ही पड़ती है यार!
कॉलर पर कॉलर की तरह !!
-------------------
बिहार में एक कहावत है
"ऊपर से फिट-फाट, अन्दर से मोकामा घाट"



Tuesday, January 15, 2019

आई लव यू


एक घंटे तैतीस मिनट
लम्बे मोबाइल कॉल के बाद
घूमते सांय-सांय करते पंखे के नीचे
सिहरता हुआ, बंद आँखों के साथ
महसूस रहा था 
प्रेम स्पंदित तेज धडकनों को
क्योंकि
प्रेमसिक्त वो ख़ास बोल
दूसरी तरफ से कहा जा चुका था
अंततः !
रूम मेट ने पूछा, झिड़कते हुए
क्या हुआ बे ?
आखिर, अचंभित व स्तब्ध
कुछ घबराहट भरे चेहरे के साथ
भविष्य के आगोश में
गुलाबी होंठो के फैंटेसी के साथ
स्वयं को महसूसते हुए
हकलाते हुए कह बैठा
- आज उसने कह ही दिया
"आई लव यू"
तीन शब्दों का
बेहद स्निग्ध अंग्रेजी स्वरुप
कर रहा था अंदर तक
उद्वेलित
कि जैसे उन शब्दों में उसने देखा हो
मोहब्बत का विश्वरूप !
अपनापन
आकर्षण का आवेग
प्यार भरी नजरें
सम्मोहन लबालब
मिलन की उत्कंठा
समर्पण बेहिसाब
सम्मिलन ... सब सब
प्लाट तैयार था
कहानी लिखी जा चुकी था
इंटरवल के बाद का मंचन भविष्य में था
आने वाले कल की बेचैनी थी !
आखिर प्रेम इतना तो मांगता है न !!

~मुकेश~


Saturday, October 27, 2018

लाल फ्रॉक वाली लड़की


स्मृतियों के गुल्लक में
सिक्कों की खनक और टनटनाती मृदुल आवाजों में
फिर से दिखी वो
लाल फ्रॉक वाली लड़की
शायद उसके पायल की रुनझुन 
बता रही थी दूर तलक
कि नखरैल और अभिमानी लड़की
चलाएगी हुकुम
स्नेहसिक्त टिमटिमाती नजरों के प्रभाव में !
चन्द सिक्के, कुछ चूड़ियाँ और कुछ चकमक पत्थर भी
सब सब
आज भी है ताजमहल के मिनिएचर रूप में
एक ख़ास पेन्सिल बॉक्स में सहेजे हुए
थी कभी उससे जुडी, आज है मेरी थाती
बस नहीं सहेज पाया वो बूँदें
जो बरसी थी, कभी मेरी वजह से
दो जोड़ी आँखों के कोने से
क्योंकि सूख चुके थे वो भी
आखिर दूरियां हो जो चुकी थी अवश्यम्भावी !
समय की टिकटिक भी आखिर कब तक
बताती रहे कि
याद है ना
वो कुछ अनमोल क्षण जो लड़ते झगड़ते हुए थे महसूस
कि पनप चुका था प्यार
आखिर तंज कसना और अजीब सी उम्मीदें
प्रेम का ही तो हिस्सा थी
खैर समय ने बदला सब कुछ !
बदलती उम्र का तकाजा कहूँ
या फिर स्थिर नजरों का प्रौढ़पन
दूर से आती प्रकाशबिंदु नहीं ठहर पा रही
बिना चश्मे के
कहीं मोतियाबिंद तो नहीं
फिर भी एक दम से कॉर्निया के मध्य
बनने लगी है
एक नई खिलखिलाती सी तस्वीर
यहाँ तक कि
अलिंद-निलय को जोड़ते
ह्रदय की शिराओं से
आई इको करती ठहरती सी आवाज
कि गुलाबी पार वाले साडी में
ग्रेस से भरे गुलाबी होंठो पर
जब आती है मुस्कुराहट तो
गुलाबी गालों पर
थिरकती मुस्कुराहटों की वजह
नजरों का मिलना तो नहीं ?
एंजियोग्राफी ही बताएगी कि शिराओं में
बहने तो नहीं लगी हो कहीं।
वैसे भी आकर्षण हो भी क्यों न
आखिर साडी के चमक के साथ
सुनहरे शब्दों में बंधे वाक्यों का
अलबेला समूह
बता रहा था
कुछ बेवजह की बातें
वजह बन जाती है
जिंदगी में नए धूप के चौरस टुकड़े के रूप में
खिलखिलाने के लिए
फिर
जरुरी तो नहीं कि
जिंदगी की रूमानियत
गुलाब के पंखुड़ियों सी गुलाबी ही रहे हर पल
सुनों
गुलाबी फ्रेम वाले चश्में में
मिलना कभी !!
ताकि रंग और प्रेम दोनों का वजूद खिलखिलाए
तुम्हारे गरिमामय चेहरे पर !!
समझी ना !!
~मुकेश~


Monday, September 24, 2018

बेटे "यश" को चिट्ठी



आज 
पार कर लिया है तुमने 
उम्र का सत्रहवां घेरा भी
बेशक नहीं है कोई बड़ी घटना
न ही हमने उसको खास बनाने की..की कोशिश
पर जो पहली उम्मीद मुझमें जगी वो ये कि
अब हर बार यात्राओं में
सूटकेस लेकर चलोगे तुम आगे
हर बार याद दिलाओगे तुम कि
रुकिए पापा
मम्मी रह गयी है पीछे

हर थमते-रुकते-भागते स्टेशन पर
बिसलरी की बोतल लाने की जिम्मेवारी
होगी तुम्हारी
अब तो टीटी को ट्रेन टिकट भी चेक
तुम ही करवाना
आखिर ऐसे शुरुआती उम्मीदें ही तो
आगे समृद्ध होंगी

मम्मी से पूछना
एक किलो सात सौ साठ ग्राम के थे तुम
जब हॉस्पिटल के ऑपेरशन थियेटर के सामने
नर्स ने पकडाते हुए कहा था
लो पकड़ो इसको, बेटे के पापा
और स्तब्ध-आश्चर्यचकित सा मैं बहुत देर तक समझ नहीं पाया
कि पापा बन जाने के बाद होता क्या है परिवर्तन
मेरे कुछ समझने या अनुभव करने से पहले
तब तक तुम्हे इन्क्युवेटर में सुलाया जा चुका था
अंडर ग्रोथ चाइल्ड होने के वजह से

रहे थे तुम एडमिट तब भी,
जब तुम्हारी मम्मी आ चुकी थी घर
और हम संदेह के लम्बे गलियारे में खड़े बस ताकते रहते
कहीं बदल गए तुम तो
हर बच्चे पर नजर रखते चौकीदार बन गए थे उन दिनों?

हॉस्पिटल से घर लाते समय
एक बित्ते के थे तुम और
हम ढूंढ रहे थे वो खास निशान
जो बता पाए बेटा है हमारा

आज सत्रह वर्षों बाद
जब उस पहले दिन के सहेजे खास क्षणों की तुलना
करता हूँ आज वाले तुमसे
तत्क्षण फील कर पाता हूँ पितृत्व

दिख जाती है ढेरों वो रातें
जब ब्रोंकाइटिस से भींच जाती थी
तुम्हारी छाती
तुम्हारी तेज साँसे बढ़ाती थी हमारी धड़कन
और आज भरे हुए तुम्हारे कुल्हे
बता रहे तुम एक शानदार प्लेयर हो टीटी के

हर बाप की तरह हूँ आज
अनिश्चित भरे तुम्हारे भविष्य के लिए चिंतित
जन्मदिन पर बढ़ती मोमबत्तियों की कतारें
आगाह करती है
बेटा बड़ा होने ही वाला है
या यूँ कहें कि एक युवा बेटे का बाप हूँ

पर चाहता हूँ आज भी
रुक जाए समय
ताकि बस स्वयं
अनुभव करता रहूँ उम्मीदों का जवां होना
और तुम भी ताजिंदगी खिलखिलाते हुए कह सको
- नया स्पोर्ट्स शूज चाहिए पापा।

वो सभी तस्वीरें आज भी पसन्द हैं
मुझे व मम्मी को,
जिनमें तुम केंद्र हो
व तुम्हारी दोनो बाहें हैं त्रिज्यात्मक दूरी में
और हमदोनों परिधि में रहे ।
जिंदगी तुमसे है, जीवन रेखा ही रहना


- तुम्हारा पापा !

~मुकेश~


पटना बिट्स पर मेरी कविता सिमरिया पुल

पटना बीट्स पर मेरी कविता सिमरिया पुल

Friday, September 14, 2018

सन्नाटा


1.
खामोशियाँ तब भी थी
थी शांत जल धारा
शांत थे उसमे तैरते
छोटी-बड़ी मछलियाँ
प्रॉन, कछुए और केंकड़े भी 
शांत थी व्हेल भी
जब वो पीछे से आयी, थी मुंह बाये
और फिर आया भूचाल

कोलाहल अजब गजब
कुछ शांत जीवों के लिए ........
फिर से शांत हो गया सब कुछ
कभी कभी नीरवता बन जाती है 'शांति'!!

~मुकेश~

2.

मौन फुसफुसाया
'शोर' के कानों में
- चीखो तुम
चिल्लाओ दम लगाकर
सुनूँ आखिर तुम्हारी 
चिल्लाहट !
पर अंततः
महसूसना तुम
अपने अंदर की चुप्पी
फिर मिलेगा
चुप्पियों से गूँथा हुआ
सन्नाटा !
या
सन्नाटे को चीरता कोलाहल !
~मुकेश~

जागरण सखी पर लाल फ्रॉक वाली लड़की की समीक्षा स्मिता के शब्दों में 

Friday, August 31, 2018

नदी सा मेरा सफ़र


सफ़र के आगाज में 
मैं था तुम सा
जैसे तुम उद्गम से निकलती 

तेज बहाव वाली नदी की कल कल जलधारा
बड़े-बड़े पत्थरों को तोड़ती
कंकड़ों में बदलती, रेत में परिवर्तित करती
बनाती खुद के के लिए रास्ता.
थे जवानी के दिन
तभी तो कुछ कर दिखाने का दंभ भरते
जोश में रहते, साहस से लबरेज 

सफ़र के मध्यान में भी तुम सा ही हूँ
कभी चपल, कभी शांत,
कभी उन्मुक्त खिलखिलता
लहरों की अठखेलियों मध्य संयमित
गंदले नाले की छुवन से उद्वेलित
शर्मसार ...कभी संकुचित 
नदी के मैदानी सफ़र सा
बिलकुल तुम्हारे
सम और विषम रूप जैसा 

तेज पर संतुलित जलधारा 
अन्नदाताओं का संरक्षक
खेवनहारों की पोषक
उम्मीद व आकांक्षाओं का 
लिए सतत प्रवाह
बेशक होता 
अनेक बाधाओं से बाधित 
पर होता जीवन से भरपूर
कभी छलकता उद्विग्न हो 
विनाशकारी बन
कभी खुशियों का बन जाता संवाहक

सफ़र के आखिरी सप्तक में भी
मद्धम होती कल कल में
थमती साँसे
शिथिल शरीर
मंथर वेग
निश्चित गति से धीरे-धीरे
क्षिति जल पावक गगन समीर में 
सब कुछ विलीन करते समय भी 
तुम सा ही मुक्त हो जाऊंगा

डेल्टा पर जमा कर अवशेष
फिर हो जायेगी परिणति मेरी भी
आखरी पड़ाव पर
महा समुद्र से महासंगम
बिलकुल तुम्हारी तरह 

हे ईश्वर, है न 
मेरा और नदी का सफ़र
शाश्वत और सार्थक !!

‍~मुकेश‍~