Followers

Monday, January 18, 2016

प्रेम से झपकती पलकें



कैमरा के फोटो शटर के तरह
कुछ नेनो/माइक्रो सेकंड्स के लिए
झपकी थी पलकें !

और इन कुछ क्षणों में
मेरे आँखों के रेटिना  से होते हुए
दिमाग और दिल तक
कब्ज़ा जमा लिया था ......सिर्फ तुमने !!

पता नहीं, कितने तरह की तस्वीरें
ब्लैक एन वाइट से लेकर
पासपोर्ट/पोस्टकार्ड पोस्टर
हर साइज़ की वाइब्रेंट
कलर तस्वीरें,
सहेजते चला गया मन !!

थर्मामीटर के पारे के तरह तुम
एक जगह जमी, ताप के साथ
उष्ण, चमकती बढती हुई ........
"हैंडल
विथ केयर" की टैग लाइन भूला मैं
और हो गया छनाक !!

पारे के असंख्य कण
बिखरे पड़े थे
और हर कण में चमक रही थी तुम !!

सच में बहुत खुबसूरत हो यार !!


Wednesday, January 6, 2016

रूट कैनाल ट्रीटमेंट !!


तुम्हारा आना
जैसे, एनेस्थेसिया के बाद
रूट कैनाल ट्रीटमेंट !!

जैसे ही तुम आई
नजरें मिली
क्षण भर का पहला स्पर्श
भूल गया सब
जैसे चुभी एनेस्थेसिया की सुई
फिर वो तेरा उलाहना
पुराने दर्द का दोहराना
सब सब !! चलता रहा !

तुम पूरे समय
शायद बताती रही
मेरी बेरुखी और पता नही
क्या क्या !
वैसे ही जैसे
एनेस्थेसिया दे कर
विभिन्न प्रकार की सुइयों से
खेलता रहता है लगातार
डेटिस्ट!!
एक दो बार मरहम की रुई भी
लगाईं उसने !!

चलते चलते
कहा तुमने
आउंगी फिर तरसो !!
ठीक वैसे जैसे
डेटिस्ट ने दिया फिर से
तीन दिन बाद का अपॉइंटमेंट !!

सुनो !!
मैं सारी जिंदगी
करवाना चाहता हूँ
रूट केनाल ट्रीटमेंट !!
बत्तीसों दाँतों का ट्रीटमेंट
जिंदगी भर ! लगातार !

तुम भी
उलाहना व दर्द देने ही
आती रहना
बारम्बार !!
आओगी न मेरी डेटिस्ट !!