Followers

Wednesday, July 2, 2008

प्यार, प्यार और प्यार!!!!


न आसमान को मुट्ठी में,

कैद करने की थी ख्वाइश,

और न, चाँद-तारे तोड़ने की चाहत!

कोशिश थी तो बस,

इतना तो पता चले की,

क्या है?

अपने अहसास की ताकत!!


इतना था अरमान!

की गुमनामी की अँधेरे मैं,

प्यार के सागर मैं,

ढूँढूँ अपनी पहचान!!

इसी सोच के साथ,

मैंने निहारा आसमान!!!


और खोला मन को द्वार!

ताकि कुछ लिख पाऊं,

आखिर क्या है?

ढाई आखर प्यार!!

पर बिखर जाते हैं,

कभी शब्द तो कभी,

मन को पतवार!!!

रह जाती है,

कलम की मुट्ठी खाली हरबार!!!!


फिर आया याद,

खुला मन को द्वार!

कि किया नहीं जाता प्यार!!

सिर्फ जिया जाता है प्यार!!!

किसी के नाम के साथ,

किसी कि नाम के खातिर!

प्यार, प्यार और प्यार!!!!

30 comments:

रश्मि प्रभा said...

तुम्हारे एहसासों का विस्तार देखकर जाना,
प्यार की परिभाषा,सही परिभाषा यही होती है,
मन के द्वार खोल बस जीया जाता है प्यार........
बहुत ही बढिया है.

EHSAAS said...

"कि किया नहीं जाता प्यार!!
सिर्फ जिया जाता है प्यार!!!
किसी के नाम के साथ,
किसी कि नाम के खातिर!
प्यार, प्यार और प्यार!!!! "

...ye sach hai....ek kavi hriday ne iss sach ko shabdon main mohak roop diya hai....aur wo "KAVI_TUKBAND"......Mukesh bheeya.....aap ki kavita behad khubsurat aur bhauk bhee hai....aur star se ek sachee kavi (Vyaktitw bhee) ki rachna...

ye hai Ehsaas ki takat!

...Ehsaas!

Jindagi said...

khubsurat rachna!

Prem Prakash said...

mukesh bhai vazan hai aapki is rachna main.

Mukesh Kumar Sinha said...

धन्यवाद दी, मुकुल, श्रेया एवं संवित जी (प्रेम प्रकाश जी) !!

Akshaya-mann said...

"कि किया नहीं जाता प्यार!!
सिर्फ जिया जाता है प्यार!!!
bilkul satya kathan hai jo hai sach jo aapne likha hai usko mai naman karta huin jis tarhan se aapne pyar ko paribhashit kara hai wo tarif-e-kabil hai jo pyar main jita hai wohi jeevan ke mahetva ko samjhta hai mujhe ki aap iske dhani hain.....
bahut accha likh rahe hain aur aage bhi liknkhege ye meri shubhkamnaaye hain....

श्रद्धा जैन said...

pyara ki paribhasha aur aapki soch
man ki vayatha sabko samjha
aapke vicharon ko samjha padha
aapse milkar achha laga

Mukesh Kumar Sinha said...

dhanyawad akshay w shraddha jee!!

Preeti said...

किया नहीं जाता प्यार!!

सिर्फ जिया जाता है प्यार!!!

किसी के नाम के साथ,

किसी कि नाम के खातिर!

very nicely expained the love...aap to bahut achha likhte hain bhaiya...aur aapke vichar aur soch behtreen hai

chetan said...

Bahut achha likhe ho Muku....aise hi likhte raho....Jeevan me apne aap ke saath baat karna bahut jaruri hai

Mukesh Kumar Sinha said...

thanx preeti n chetan da!!

Advocate Rashmi saurana said...

bhut khub. likhte rhe.

Mukesh Kumar Sinha said...

dhanyawad!!

Neha said...

A beautiful thought which has a lot of depth... I always thought dat certain things can never b expressed in words but u hav changed my perception... a commendable job...

ankit said...

what a freakness of heart..
nd i felt all the words genuinly...
maan gaye bhaiya

Antrang - The InnerSoul said...

Bahut hi behtarin ehsaas pyaar ka...
never fall in love,
always rise in love...!:)

DAISY D GR8 said...

khwaish kya kra dein nahi pata
magar aapki lekhni dil or dimag ko hila gain...

Mukesh Kumar Sinha said...

dhanyawad!! sabko.............jinohene mere liye samay nikala!!

geeta said...

mukeshji hi
aapne pyar ko samjha hai tabhi tu aap es par kavita likh paye hai mai tu bas etna kaha te hu
darane ki koi baat nahi,
pyar to himmat ka dusara naam hai
jo pyar karate hai vo rusvai se nahi darate
kyonki pyar ka dusara naam judai hota hai

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) said...

बहुत ही बढ़िया सर।

सादर

anu (anju choudhary) said...

ढाई आखर प्यार!!

पर बिखर जाते हैं,

कभी शब्द तो कभी,

मन को पतवार!!!

रह जाती है,

कलम की मुट्ठी खाली हरबार!!!



bahut purani kavita....par bahut badiya .....
ham log 1sath 2008 mei blog ki dinya mei aye ...mukesh ji .

Kailash C Sharma said...

कि किया नहीं जाता प्यार!!

सिर्फ जिया जाता है प्यार!!!

लाज़वाब अहसास...बहुत सुन्दर

Neelima sharrma said...

इतना था अरमान!

की गुमनामी की अँधेरे मैं,

प्यार के सागर मैं,

धुधु अपनी पहचान!!

इसी सोच के साथ,

मैंने निहारा आसमान!!!..................very nice

निवेदिता said...

कोशिश थी तो बस,

इतना तो पता चले की,

क्या है?

अपने अहसास की ताकत!!
.... इतनी ख़ूबसूरत सोच के लिये क्या कहूँ ... बस सिर्फ़ शुभकामनायें और मंगलकामनायें :)

दर्शन कौर said...

किया नहीं जाता प्यार!!
सिर्फ जिया जाता है प्यार!!!
किसी के नाम के साथ,
किसी कि नाम के खातिर!
प्यार, प्यार और प्यार!!!! "

waah !kya baat hei

sushma 'आहुति' said...

बहुत ही खुबसूरत एहसास....

मीनाक्षी said...

यही प्यारा एहसास ही प्यार है...बेहद प्यारी कविता ....

Dimple Kapoor said...

so beautiful poem this time from u ....muje bhut achi lagi yeh rachna ...sirf ahsaas ke sath kisi ko khud ke sath jiya ja sakta hai :)

Reena Maurya said...

किया नहीं जाता प्यार!!
सिर्फ जिया जाता है प्यार!!!
किसी के नाम के साथ,
किसी कि नाम के खातिर!
प्यार, प्यार और प्यार!!!! "
बहुत सुंदर अहसास लिए रचना
लाजवाब.... :-)

parul chandra said...

बहुत सुंदर ख्याल...