Followers

Thursday, October 31, 2013

स्पर्श !!


हाँ !
तुम्हारा वो पहला
स्पर्श !!
है मेरी में
कहीं समाहित
संयोजित
सहेजा हुआ !!

जो देती है
एक बहुत अलग सा कंपन
तरंग !!
वैसे ही
जैसे केहुनी पर
कभी कभी
टन्न से कुछ लगता है
तो झनझना उठता है
पूरा शरीर !! सर्वस्व!!

पर मैं
इस झन्नाहट को
महसूसना चाहता हूँ
बराबर! हरदम !!
संभव है ??
ए जिंदगी! तू खुद एक तरंग है कंपकंपी देती रहती है !! 




18 comments:

कालीपद प्रसाद said...

बहुत खुबसूरत अनुभूति की अभिव्यक्ति -अति सुन्दर
नई पोस्ट हम-तुम अकेले

Upasna Siag said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति..
आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आप की इस प्रविष्टि की चर्चा शनिवार 02/11/2013 को आओ एक दीप जलाएँ ...( हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल : 039 )
- पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें, सादर ....

नीलिमा शर्मा said...

umda post

Kailash Sharma said...

बहुत सुन्दर संवेदनशील अभिव्यक्ति...

Ranjana Verma said...

बहुत सुंदर !! दीपावली कि हार्दिक शुभकामना.....

sushma 'आहुति' said...

भावो को खुबसूरत शब्द दिए है अपने....

दिगम्बर नासवा said...

प्रेम का ये पहला स्पर्श याद रहता है सभी को ...
दीपावली के पावन पर्व की बधाई ओर शुभकामनायें ...

vijay kumar sappatti said...

prem ! bas yahi to poorn hai

Udan Tashtari said...

अति सुन्दर

रविकर said...

अति सुन्दर-

पाव पाव दीपावली, शुभकामना अनेक |
वली-वलीमुख अवध में, सबके प्रभु तो एक |
सब के प्रभु तो एक, उन्हीं का चलता सिक्का |
कई पावली किन्तु, स्वयं को कहते इक्का |
जाओ उनसे चेत, बनो मत मूर्ख गावदी |
रविकर दिया सँदेश, मिठाई पाव पाव दी ||

वली-वलीमुख = राम जी / हनुमान जी
पावली=चवन्नी
गावदी = मूर्ख / अबोध

vandana gupta said...

sundar prastuti

Aparna Sah said...

apne manobhavon ki itni pyari abhiwyakti....itne khubsurat shabd...wah..

Naveen Mani Tripathi said...

wah bhai sinha ji bahut khoob likha hai apne badhai .

रेखा श्रीवास्तव said...

prem hi vah bhav hai jis par granth likhe jate hain . har vidha men isane apane paanv pasar rakhe hain.
bahut sundar dhang se chitrit kiya hai.

मन के - मनके said...

स्पर्शों की भाषायें बडी निराली हैं,
जहां,कोई और भाषा की जरूरत ही नहीं.

My Spicy Stories said...

Nice and Loving Poem Added by You Ever. Read Love Stories and प्यार की स्टोरी हिंदी में aur bhi bahut kuch.

Thank You For Sharing.

Savita Mishra said...

सुन्दर

Dr.J.P.Tiwari said...

बहुत सुनसार कोमल अभिव्यक्ति बिलकुल स्पर्श सा कोमल और मुलायम