Followers

Monday, June 7, 2010

काली रात


वो काली और गाढ़ी रात
पर नींद नहीं आँखों में ........
कड़कते काले बादल
 इस सुनसान गगन में.........
इठला कर चमक रही है बिजली
जैसे आग लगने वाली हो तन मन में..........
सो रहे हैं सब
लेकिन इस ख़ामोशी में भी
कोलाहहल सा हो रह है मन में.......
किसपे चिल्लाऊं
किसको बुलाऊं
इस सूनेपन में........
सितारे भी तो नजर
नहीं आते इस गगन में.........
क्या यही है जिंदगी
ऐसे ही कुछ सवाल
उठ रहें हैं मन में
कौंध रहे हैं मन में............



41 comments:

Neelam said...

किसको बुलाऊं
इस सूनेपन में........
सितारे भी तो नजर
नहीं आते इस गगन में.........
क्या यही है जिंदगी....
jee Mukesh jee
Zindagi aisi hi hoti hai,
kabhi hasti kabhi roti hai,
nadaan to ban na chaahte hain magar,
umra chehre par halaaton ne likhi hoti hai.
bahut badhiya rachna ke liye badhai. yunhi likhte rahiyega.

Mukesh Kumar Sinha said...

dhanyawad Neelum jee!! haan sach kaha aapne, jindagi bahut saare roop dikahti hai .........aur bas........aise hi kat ti chali jaati hai......:)

Neelam said...
This comment has been removed by the author.
Shekhar Kumawat said...

bahut khub

परमजीत सिँह बाली said...

इसी का नाम जिन्दगी है.....बढिया रचना है। बधाई।

चला बिहारी ब्लॉगर बनने said...

मुकेस बाबू! आपने हमरा पहला कबिता को नया विस्तार दिया है, अपना कबिता के माध्यम से...
भयाक्रांत मन पिशाच
क्यों रहा है नाच!!
जीवन के स्वर्णिम मुहाने पर
कैसा है झंझावात!!
अईसा ही मनोदसा का वर्णन आप यहाँ किए हैं...रचनाधर्मिता बनए रखिए... हमरा आसीस है आपको!!

Dr.amit keshri said...

bahut he achche bhaav...

Mukesh Kumar Sinha said...

dhanyawad......sekhar jee, premjeet jee, Dr. keshri!!

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

खामोशी में भी कोलाहल......गहरे भाव लिए हुए....सुन्दर रचना

रश्मि प्रभा... said...

कोलाहहल सा हो रह है मन में.......
किसपे चिल्लाऊं
किसको बुलाऊं
bahut ghutan hai isme

anilanjana said...

अब साथ रहना उतना ज़रूरी नहीं जितना साथ दिखाई देना..यही है आज की जिंदगी..इस अकेलेपन से अनुबंध हमरी मज़बूरी है .और येही घुटन का कारन है .इसी हवा में अपनी भी दो चार सांसें हैं ..अगर ये आस बाकी रह गयी तो ये जीवन की बड़ी उपलब्धि है..हमेशा की तरह मानव मन की तह में बैठी तुम्हारी कविता..एक बार फिर से बधाई..एक बार फिर से ढेर सारी दुआएं ..देखो न मैं कितनी खुशकिस्मत हूँ किएक संवेदनशील इन्सान की दी और दोस्त हूँ..

स्वाति said...

सुन्दर-संवेदनशील रचना..

Mukesh Kumar Sinha said...

Bihari babu aapke aashish ki jarurat hame rahegi........dhanyawad
!!

दिगम्बर नासवा said...

सो रहे हैं सब
लेकिन इस ख़ामोशी में भी
कोलाहहल सा हो रह है मन में.......
किसपे चिल्लाऊं
किसको बुलाऊं
इस सूनेपन में........

जीवन के इस सूने पन को आप ही झेलना पढ़ता है .... अच्छा लिखा है..

वाणी गीत said...

ख़ामोशी का कोलाहल ऐसे ही सताता होगा तन्हाई में ...
अकेलेपन को उकेरती अच्छी रचना ...

राकेश कौशिक said...

सार्थक प्रयास और तस्वीरें भी बहुत सुंदर

'अदा' said...

khamoshi ke saath kolahal karti hui rachna...
bahut khoob likhte hain aap..
shukriya..

geeta said...

Mukeshji hi
aapke rachna mujhe hamesha hi pasand aate hai par es baar aapke kavita mai ek dard tha.vese tu aap har baar jo bhi likhte hai kuch alag hi hota hai. es baar ki kavita mai aapne dil ki baat kahi hai. bahut achche hia hamesha es tarah hi likhte rahe.

merekuchhgeet said...

जब मन अशांत हो तब ख़ामोशी में भी शोर सुनायी देता है .बहुत अच्छा अभिव्यक्त किया है भावों को .

Mukesh Kumar Sinha said...

Anjana di!! aap sabo ke pyar, utsah deekhane ke karan hi kuchh sabdo sutro me peero paya hooon!! bas aapse yahi gujarish hai.....barabar aise hi rahana.....:)

आशीष/ ASHISH said...

MAIKYA SINHA SAAB,
CHHA GAYE AAP!

JANIYE.....
KYUN HOTA BAADAL BANJAARA...?

ASHISH :)

JHAROKHA said...

सुन्दर और भावपूर्ण-----।

हरकीरत ' हीर' said...

ज़िन्दगी के रंग कई रे साथी रे
ज़िन्दगी के रंग कई रे.....
ज़िन्दगी की राहों में हंसी के फूल भी
ज़िन्दगी की राहों में ग़मों के फूल भी ....

अरुणेश मिश्र said...

भाव सहज एवं सरस ।

JHAROKHA said...

mukesh ji ek yatharth ka anubhav karaati bahut hi sundar rachana.
apni nai kitaab pustak ki samichha ke baare me jo aapne apni abhivyakti jaahir ki haiuske liye dhanyvaad ke saath yah bhi kahana chahungi ki yahan bachcho ke adhikaar se matlab hai ki ham maa baap jo apni antim saans tak bachcho ki behatari ke liye khade rahate hainunko bhi apni baat kahane ka,unki baatooko sunanane aur samajhane ka mouka dena chahiye
kabhi unki baat ko bhi maan kar unko yah ahsaas dilaane ki jarurat hai ki bachcho ko bhi yah adhikaar hai ki vah apni baat khul kar kah
sakte hain.yah baat unke andar aatm vishwas paida karne me bahut hi kaargar sabit ho sakati hai.
mujhe yah jaan kar bahut khushi hui ki aapne purnatah sachchai ke saath apni baat kahi.aur aise log mujhe bahut hi achche lagate hain.
isase apani baat ko samjhane aur dusaro ki baat ko samjhne kaavasar bhi milta hai.
poonam

Mukesh Kumar Sinha said...

Thanx Swati, Digamber jee, Rakesh jee, Vaani jee.........thanx for beautiful words for inspirations......

Mukesh Kumar Sinha said...

Poonam jee!! mujhe jo uss samay laga, bas yahi maine byan kiya....:)
waise ab aapke baat se sahmat hoon........!!

mere blog pe aane ke liye sukriya!!

shikha varshney said...

गहरे भाव लिए है रचना ..ये सवाल अक्सर हम सब अपनी जिंदगी से करते हैं .

sakhi with feelings said...

kya baat hai apne to rat aur bijali ka photo hi khinch diya

Mukesh Kumar Sinha said...

dhanyawaad Ada jee!!

Geeta!! hame khushi hai, koi hamari rachnaon ko padhta hai aur wo bhi barabar!!...:)

Thanx Alpana jee(mere kuchh geet)!!

jenny shabnam said...

मुकेश जी,
बस...ऐसी हीं होती है ज़िन्दगी...सन्नाटे में कोई साथ नहीं होता...न ज़िन्दगी में जब ज़रूरत हो तो कोई साथ होता...

किसको बुलाऊं
इस सूनेपन में........
सितारे भी तो नजर
नहीं आते इस गगन में.........
क्या यही है जिंदगी....

बहुत अच्छी रचना केलिए बधाई आपको|

संजय भास्कर said...

जीवन के इस सूने पन को आप ही झेलना पढ़ता है .

संजय भास्कर said...

किस खूबसूरती से लिखा है आपने। मुँह से वाह निकल गया पढते ही।

Mukesh Kumar Sinha said...

धन्यवाद् आशीष!
धन्यवाद् हरकीरत जी, आपके कमेंट्स का इंतज़ार रहता है......:)

putul said...

I have to admit it is a very cute poem with innocent and simple words but it speaks a lot! Very touchy...

Apanatva said...

tabhee to hume itanee sunder bhavmay panktiya padne ko miltee hai.....itnee sunder rachana ka janm aise hee thodee ho jata hai.........

ρяєєтι said...

behad maarmik rachna... akelepan ki vyatha ko bhali bhaati shabdo main utara hai aapne....!

वन्दना said...

अकेलेपन की त्रासदी को इंगित करती सुन्दर रचना।

Mukesh Kumar Sinha said...

धन्यवाद्............आशीष, शिखा, सखी व जेन्नी जी!!

आप सबो को बहुत बहुत धन्यवाद् अपना समय देने के लिए.......

Anju said...

badhiya!

Gajini said...
This comment has been removed by the author.