Followers

Monday, February 10, 2014

प्यार !



प्यार जो है ढाई आखर शब्द

प्यार मौन का

प्यार नजरों का

प्यार अहसासों का

प्यार साँसो का

प्यार दिलों का

प्यार स्पर्श का

प्यार दूरी का

प्यार धड़कन का

प्यार गंध का

प्यार सुगंध का

प्यार शब्दो का

प्यार लिखावट का

प्यार चिन्ह का

प्यार प्यार का

प्यार उसकी इबादत का

प्यार उसकी हसरतों का

प्यार उसकी अहमियत का

प्यार जिंदगी का

प्यार ज़िंदगानी का

प्यार उसका

प्यार मेरा

प्यार हम दोनों का

प्यार ही है न :)



10 comments:

शिवनाथ कुमार said...

प्यार देखा जाए तो हर जगह
बहुत सुन्दर !!

Aparna Sah said...

pyar hi pyar.....beshumar....srishti ka aadhar hi to pyar hai...pyar gar nahi to ye sara jag mithya...............

Aparna Sah said...

pyar hi pyar.....beshumar....srishti ka aadhar hi to pyar hai...pyar gar nahi to ye sara jag mithya...............

चला बिहारी ब्लॉगर बनने said...


प्यार पूरा नहीं होता, क्योंकि इसका पहला अक्षर ही अधूरा होता है...
____________________________________
यूँ ही पढा था कहीं ट्रक के पीछे!!
/
कुछ सुधार हालाँकि बताते हुए डर लगता है.. कहीं बुरा ना मान जाएँ...
/
प्यार उसकी इबादत का
प्यार उसकी हसरतों का
प्यार उसकी अहमियत का
/
बाकी तो सब मस्त है!!
__________________________________
ह भी क्यों नहीं, प्यार से जो लिखा है!!!

प्रवीण पाण्डेय said...

हर शब्द में प्यार, हर लब्ध में प्यार।

Mukesh Kumar Sinha said...

ठीक कर दिया बड़े भैया ....... थैंक्स !!

Digamber Naswa said...

प्यार, प्यार, प्यार ...
सच कहो तो हर जगह बार प्यार ही प्यार है ..

संजय भास्‍कर said...

बहुत ही सुन्दर और उत्कृष्ट प्रस्तुति

नीलिमा शर्मा said...

beshumaar pyar ..superb

नीलिमा शर्मा said...

beshumaar pyar ..superb