Followers

Wednesday, November 13, 2013

विमोचन : गुलमोहर


हम गुलमोहर के रचनाकर
अपनी खुशियों में करना चाहते हैं
आपको शामिल .....
चाहते हैं आपकी शुभकामनाएँ
आपकी गरिमामय उपस्थिति
आप सबका प्रदीप्त सान्निध्य।
तो आएँगे न ...
जरूर आइएगा
इंतज़ार करेंगे हम सब.......

30
कवियों की प्रतिनिधि कविताओं के संग्रह "गुलमोहर"
का विमोचन

सान्निध्य :
लीलाधर मंडलोई, वरिष्ठ कवि
सुमन केशरी, वरिष्ठ कवयित्री
लक्ष्मी शंकर वाजपेई, वरिष्ठ कवि-गीतकार
ओम निश्चल, वरिष्ठ कवि-लेखक
मनीषा कुलश्रेष्ठ, चर्चित कहानीकार

स्थान : हिंदी भवन, आईटीओ के पास
तृतीय तल
विष्णु दिगम्बर मार्ग
नई दिल्ली 

दिन : 16 नवम्बर 2013
समय : दोपहर 1 बजे से शाम 4 बजे तक

गुलमोहर के प्रतिभागी रचनाकार :

अपर्णा अनेकवर्णा
अरुण शर्मा अनंत
अशोक अरोड़ा
आभा खरे
अनुराग त्रिवेदी
नीलिमा शर्मा
शलिनी रस्तोगी
किशोर खोरेन्द्र
रंजू भाटिया
बोधमिता
उपासना सियाग
नीलू पटनी
दिवेन्द्र सिंह
दीपक शुक्ला
ऋता शेखर
संध्या जैन
महिमा मित्तल
सत्यम शिवम
हुकम चंद भास्कर
गुंजन श्रीवास्तव
नितीश मिश्रा
हरी शर्मा
विवेक अरोरा
भरत तिवारी
राज रंजन
कुमार जेमिनी शास्त्री
पवन अरोड़ा
अंजु चौधरी
मुकेश कुमार सिन्हा

गुलमोहरमेरे और अंजु(अनु) चौधरी द्वारा सम्पादित 30 नवोदित कवियों के साझा कविता संग्रह का विमोचन 16 नवम्बर 2013 दिन मे 1 बजे से 4 बजे के बीच दिल्ली के हिंदी भवन, विष्णु दिगंबर मार्ग, नई दिल्ली में लीलाधर मंडलोई, वरिष्ठ कवि, सुमन केशरी, वरिष्ठ कवयित्री, लक्ष्मी शंकर वाजपेई, वरिष्ठ कवि-गीतकार, ओम निश्चल, वरिष्ठ कवि-लेखक व मनीषा कुलश्रेष्ठा, चर्चित कहानीकार के सान्निध्य मे सम्पन्न होना निश्चित हुआ है। गुलमोहर के प्रतिभागी रचनाकार हैं : पवन अरोड़ा, अपर्णा अनेकवर्णा, अरुण शर्मा अनंत, अशोक अरोड़ा , आभा खरे, अनुराग त्रिवेदी, नीलिमा शर्मा, शलिनी रस्तोगी, किशोर खोरेन्द्र, रंजू भाटिया, बोधमिता, उपासना सियाग, नीलु पटनी, दिवेन्द्र सिंह, दीपक शुक्ला, ऋता शेखर, संध्या जैन, महिमा मित्तल, सत्यम शिवम, हुकम चंद भास्कर, गुंजन श्रीवास्तव, नितीश मिश्रा, हरी शर्मा, विवेक अरोरा, भरत तिवारी, राज रंजन, कुमार जेमिनी शास्त्री, अंजु चौधरी व मुकेश कुमार सिन्हा। ये कविता संग्रह शैलेश भारतवासी का हिन्द युग्म प्रकाशित कर रहा है। इस से पहले भी हमने मिल कर कस्तुरीऔर पगडंडियाँके नाम से दो कविता संग्रह में बहुत से नवोदित कवियों को जगह दी है। पिछले दिनों इंडिया टूडे के अनुसार पगडंडियाँ बेस्ट सेलर भी रही। अर्थात अगर कोशिश सही हो, तो बहुत से नए लोग हिन्दी कविता के माध्यम से आगे पहुँच सकते हैं, और यहीं हमारा मानना है और ऐसा ये चाहते भी हैं ।

एक जो महत्वपूर्ण बात है, जो मैं फिर से कहना चाहता हूँ, मैं आज भी समझता हूँ, मैं इस लायक नहीं हूँ की किसी और की कविताओं को सम्पादित कर पाऊँ, पर फिर भी ये तीसरी साझा कविता संग्रह है और इसके पहले प्रकाशित हुए दोनों संग्रहों को सबने सराहा है ! और आगे भी आप सबसे यही उम्मीद रहेगी !! 

इन वेबसाइटों से आप अपनी प्रतियाँ सुरक्षित कर सकते हैं-

@Snapdeal: http://www.snapdeal.com/product/gulmohar/1909245992 (मात्र रु 105 में, कैश ऑन डिलीवरी सुविधा के साथ, अगर आप प्रतिभागी कवियों और संपादकों द्वारा हस्ताक्षरित प्रति पाना चाहते हैं तो इसी वेबसाइट से बुक करें)

@Homeshop18: http://www.homeshop18.com/gulmohar/author:mukesh-kumar-sinha/books/poetry/product:31025581/cid:10938 (मात्र रु 108 में, कैश ऑन डिलीवरी सुविधा के साथ, घर मँगाने का कोई अतिरिक्त खर्च नहीं)

@Infibeam: http://www.infibeam.com/Books/gulmohar-hindi-anju-anu-chaudhary-mukesh/9789381394595.html (मात्र रु 120 में, कैश ऑन डिलीवरी सुविधा के साथ)

@BookAdda: http://www.bookadda.com/books/gulmohar-anju-anu-9381394598-9789381394595 (मात्र रु 143 में, कैश ऑन डिलीवरी सुविधा के साथ)

*कैश ऑन डिलीवरी का आशय यह है कि आपको इस किताब को ऑनलाइन खरीदने के लिए क्रेडिट कार्ड/डेबिट कार्ट/नेट बैंकिंग आदि के माध्यम से पहले मूल्य नहीं चुकाना है, बल्कि जब किताब आपके घर पहुँच जाए तो कोरियर वाले को नगद पैसे देने हैं।


आप सबका इंतज़ार रहेगा !!


11 comments:

Meena Pathak said...

bahut bahut badhai or shubhkamnaayen

Saras said...


बहुत बहुत बधाई मुकेश उन सभी को जो गुलमोहर से जुड़े हैं .....!!!!!

shikha varshney said...

बहुत बहुत बधाई .

expression said...

बहुत बहुत बधाई..आपको ,अंजू को और सभी रचनाकारों को.

सस्नेह
अनु

Upasna Siag said...


आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आप की इस प्रविष्टि की चर्चा शनिवार 16 /11/2013 को ज्योतिष भाग्य बताता है , बनाता नहीं ... ...( हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल : 045 )
- पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें, सादर ....

नीलिमा शर्मा said...

shubhkamnaaye vimochan ke awasar par

Ranjana Verma said...

आप सभी को बहुत बहुत बधाई !!

Pratibha gotiwale said...

aap sabhi ko badhai

Anju (Anu) Chaudhary said...

मुकेश ...आपको इस संग्रह के लिए फिर से शुभकामनाएँ


बहुत से लोगों को साथ लेकर चलना आसान नहीं है ...एक काफिला जो हम लोग साथ लेकर चल रहें हैं...उस में आ रही दिक्कतों के बाद भी ...हमने कभी हार नहीं मानी और ना आगे कभी मानेगें...देखने,पढ़ने के बाद बहुत से लोग ऐसे हैं जो हमेशा ही राह में रोड़े अटकाने का काम करते हैं उसके बाबजूद एक अटूट विश्वास है जो हम अपने साथियों पर रखते हैं जिसकी वजह से हमारे पहले साँझा काव्य संग्रहों को एक मुकाम हासिल हुआ है...आप से अनुरोध है कि आप यूँ ही निरंतर ऐसे ही आगे बढ़ते जाएँ...बिना किसी की परवाह किये बिना ......ईश्वर आपके साथ है

रश्मि शर्मा said...

सभी प्रति‍भागी कवि‍यों को बधाई और ढेर सारी शुभकामनाएं...

Mukesh Tyagi said...

Badhayi ho aap sabko;-))