Followers

Tuesday, March 16, 2010

~अख़बार~







दिन था रविवार,
सुबह की अलसाई नींद
ऊपर से श्रीमती जी की चीत्कार...
देर से ही सही, नींद का किया बहिष्कार
फिर, चाय की चुस्की, साथ में अख़बार
आंखे जम गई दो शीर्षक पर
"दिल्ली की दौड़ती सड़क पर, कार में बलात्कार"
"सचिन! तेरा बैट कब तक दिखायेगा चमत्कार"
.

सचिन के बल्ले के चौके-छक्के की फुहार
हुआ खुशियों का मंद इजहार
दिल चिहुंका! हुआ बाग-बाग! चिल्लाया॥
सचिन! तू दिखाते रह ऐसा ही चमत्कार
कर बार-बार! हजारो बार......
.
तदपुरांत, धीरे धीरे पलटने लगा अखबार
पर, तुरंत ही आँखें और उँगलियों ने किया मजबूर
आँखे फिर से उसी शीर्षक पर जा कर हो गयी स्थिर
एक दृश्य बिना किसी टेक-रिटेक के गयी सामने से गुजर
सोच भी गयी थम!
आँखे हो गयी नम!!
.
उसी दिल से, वहीँ से, उसी समय
एक और बिना सोचे, समझे, हुआ हुंकार
क्या ये भी होगा बार-बार!! हजारो बार॥
क्या ऐसे ही महिलाओं की इज्जत होगी तार-तार.....
.
.
आखिर कब तक...........!!!!!!!!!!!!!!!


37 comments:

putul said...

तुम्हारे शब्दों को पढ़ते ही भींग जाती हैं आंखें
इतनी शिद्दत से कोई तुम जैसा ही महसूस करता है ........
ये महसूस कर सकने की शक्ति तुम्हें दिशा देगी , मार्ग देगी ....
यह सूकून बहुत बड़ा है मेरे लिए कि कोई है जो औरतों के वजूद को जरूरी मानता है , सोचता है और लिखता है .....

DAISY D GR8 said...

मुकेश जी आपकी लेखनी को सलाम
लेखन देख कर पता चलता हैं
आपका दिल और दिमाग कहाँ हैं
माफ़ करना!!
आपकी कविता या विचार दिल और दिमाग को
हिला गये नारी की हेसियत बता गये!
आपको अब ईस माहोल और समाज
को बदलना हैं!!!

Khushi said...

मुकेश जी बहुत खूब..
बहुत सरलता से आपने खुशी [सचिन के चमत्कार]
और गम [कार में बलात्कार] का चित्रण किया..!!
आप की शैली बहुत स्पष्ट, सरल होने की वजह से दिल को छू जाती है..!
खुशी की और से बहुत बहुत स्नेह...[:)]
स्वस्थ रहिये और लिखते रहिये..!!

रश्मि प्रभा... said...

ek hi samay me insaan kitne virodhi lamhon se gujarta hai.....samvedanshil mann ki dashaa gahraai se ujaagar hui hai

anilanjana said...

वर्तमान की विडम्बना..भविष्य के प्रति आशंकाएं और सपने ..विवरण कम संकेत ज्यादा हैं ..एहसास द्वारा हर चीज़ व्यक्तिगत बन जाती है जिसकी वजह से अनायास ही विकृत भी हो जाती है और संवेदनशील भी ....हमेशा की तरह मुकेश ..सहज सरल..हृदय को स्पंदित करने वाली रचना ..

Mukesh Kumar Sinha said...

धन्यवाद् पुतुल जी, डेज़ी जी, ख़ुशी जी, रश्मि दी और अंजना दी !!
अपने शब्दों से मुझमे उत्साह जगाने के लिए कोटिशः धन्यवाद्!!

ρяєєтι said...

yeh Aam logo ki hi soch hai, jo shabdo main nahi dhaal paate hai... Aapne insaan ki kai manodasha ko yaha ek saath shabdo main dhaala hai...bahut hi acchi prastuti hai... sach ...

shikha varshney said...

मन में उठती अनगिनत भावनाओं को बेहतरीन शब्द दिए हैं आपने..मन को अन्दर तक छू जातिही आपकी रचना

sangeeta swarup said...

अच्छी तरह घटनाक्रम को बयां किया है....एक ओर जहाँ सिर गर्व से ऊँचा होता है तो दूसरी ओर शर्मिंदगी...

sakhi with feelings said...

मुकेश जी
अपने बहुत शर गर्भित रचना लिखी है
जहा हम अपनी जीत का जश्न मानाने के लिए तेयार होते है वही किसी के साथ हुए अन्याय पे बेजार होते है और कुछ न कर पाने का अफ़सोस होता है ...

Dr.amit said...

bahut he behtarin likha hai bhaia aapne :)

masoomshayer said...

दुखती हुई रागों पर बहुत अच्छे से हाथ रक्खा है
सब के मन के भाव ले आये हो बहुत अच्छा है
मासूम शायर

maithil said...

काश ये पंक्तियाँ हमारे उन समाज के रखवालों तक पहुँच सके जो हमारे समाज की महिलाओं की सुरक्षा करने का दंभ भरते हैं | दिल्ली ही नहीं देश के विभिन्न प्रान्तों का यही हाल है , हर जगह महिला को प्रतारित किया जा रहा है | जिस दिन लोग महिला के महत्व को समझ लेंगे जिस दिन जान लेंगे की महिला का अर्थ त्याग , सुचता , तपस्या और बलिदान है उस दिन शायद इस तरह की घटना बंद होगी |

वैसे मुकेश भैया वास्तव मे पंक्तियाँ दिल को छूने वाली हैं ...!!!

अभिषेक प्रसाद 'अवि' said...

adbhutaas....

Mukesh Kumar Sinha said...

yes Preeti!! ham jaise aam log, bas soch kar hi rah jaate hain......aur jindagi chalti rahi hai......:(

Mukesh Kumar Sinha said...

thanx Sikha jee, Sangeeta jee, Sakhi.., amit, anil sir aur Rajeev.........thanx!!

dipti said...

shabdo ke sagar mai gotein laga rahi thi ...vismriti par apne zor laga rahit thi... kaun se shabdon se apni vyakulta ko mitaon...kaise apni bhawnayei vyakt karoon...satya aur spast,sahaj aur saral...yahi shabd hai jo aapki rachna ko yatharth ka aaiyna dikhate hai... ek taraf jahan chmatkari pradarshan ka jashn desh mana raha tha to wahin aisi ghatnayein man ke vyatha ko vyakul kar rahi thi...kisi ke wajood ko taar-taar kiya gaya...sach mai aisi apriya ghatnayein man ko sirf chot hi nahi balki ghrida se bhi bhar deti hai...pata nahi is junglee manav ka man kab aisi uttajenao se paar pakar kisi ke wajood ka samman karega...filhaal to aisi ghatnayein bhavishya ke liye ek sanket hi deti hai...kya hoga ...aur kyun ???? aur aise logon ko kadhor se kadhor dand di jaaye...taki is par lagaam lag sake...

arun c roy said...

samechin aur sarthak rachna

shama said...

Sashakt rachana...wah!

रेखा श्रीवास्तव said...

मुकेश जी,
अख़बार सभी पढ़ते हैं और खबरें भी , लेकिन उन ख़बरों के दर्द को शिद्दत से महसूस करके एक दस्तावेज बना देना ही कलमकार का चमत्कार है और वह भी जो लोगों को सोचने को मजबूर कर दे कि ऐसा भी होता है कि दूसरों का दर्द कैसे आंसूं बन अपने आँखें भिगोता है.
इस कविता तक पहुँचने के लिए मार्ग प्रशस्त करने के लिए रश्मि प्रभा जी को बहुत बहुत धन्यवाद!

jenny shabnam said...

mukesh ji,
aapki rachna tak rashmi ji ke dwara pahle bhi pahunch chuki hun. samaj ke sach se utpann man ke kayee bhaawon ka ek sath sateek aur sundar chitran. badhai sweekaren.

geeta said...

mukeshji aapke kavita bahut hi dil ko chu dene vale hai. aapne do alag bataoo ko bahut hi sunder tareeke se ek sath diya hai pad kar bahut achcha laga es tarah hi apne dosto ko apne lekhne se kuch na kuch dete rahiye

choti si kahani se said...

bhai maaf karna kuch behad teekha bolne ki himmat ker rahi hoon.....per sabse pahle to itni imandar rachna ke liye sadhuvad....baki shabdo ke khiladhi to aap hain hi badhiya...sachin se kuch kam nahi....
aur ab thodhi kadvi, teekhi magar sach baat....mahilaon ki ijjat isliye tar tar hoti hai kyunki ijjat to duniya me shayad mahilaon ki hi hai.....galiyan deni ho to ma-bahan (mahilayen), balatkar ho to aurat ki ijjat ka dagdar hona.....kyu??? kya isme purush ki ijjat nahi jati??? ya shayad uske man me apni koi ijjat hi nahi hoti...tabhi wo apni ijjat ka paimana humesha apne se judi hui aurat ko banata hai....maa, bahan, biwi, beti.......IJJAT TO SIRF MAHILAON KI HI HOTI HAI...PURUSHON KI NAHI.....shayad yahi sahi hai.....bura na mane...jo man me aya likh diya.....gustakhi maaf!!!

Mukesh Kumar Sinha said...

sabse pahle......Dipti, Arun C.Roy, Shama, Rekha Srivastava, Jenny Shabnam, Geeta aur Roli ko bahut bahut dhanyawad..........jo unhone mere panktiyon ke liye samay nikala!! >)

Neelam said...

Mukesh ji...aapki iss kavita main jis khushi aur vivashta ka chitran kiya gaya hai wo bahut hi saral aur spasht hai.
meri dua hai aap khoob likhen aur nayi unchaiyon ko chuyen.

Mohita said...

vry nice Mukesh sir aap kafi aache likhte ho.. kuch hume bhi seekha do plz.. i love all dis stuff..:)

हरकीरत ' हीर' said...

ये एक ऐसा विषय है जिस पर जितना लिखा जाये कम है ....बहस के मुद्दे भी उठ खड़े होते हैं .....बहरहाल हम यहाँ सिर्फ रचना की तारीफ करेंगे .......

बहुत अच्छी रचना ......!!

ye word verification hta lein ....

Mukesh Kumar Sinha said...

thanx Neelam jee, Mohita aur Harkirat jee.......very very thanx.........!!

word verification hatane ke liye kya karna padta hai??

vandana said...

बहुत अच्छे से भावों को पंक्तियों मे उतारा है मुकेशजी....दुःख की गहरायी महसूस हुई....पढ़ते पढ़ते सोच तो हमारी भी थम सी गयी....

Mukesh Kumar Sinha said...

dhanyawad Vandana jee!! agar aap isko padh kar aisa mahsoos kar saki to........

"KaushiK" said...

sach kahun to apki is rachna ko padhkar wah aur aah mukh se ek sath nikle hain . samaj ki ek sachai ko sabdon me pirokar achha swal kiya hai apne.....mai aapke blog par pahli baar aaya hun aur aab aata hi rahunga .samay ke abhav men shyad har rachna par apni rai na de paun ...to maf kariyega...

Mukesh Kumar Sinha said...

aap sabo ki suggestions khushi detee hai Kaushik jee..........dhanyawad!!

अनामिका की सदाये...... said...

thanks link bhejne k liye..aapke likhne ka tarika ek dam hat k laga aur acchha b. badhayi.

नवीन जोशी said...

सोचनीय....दो विपरीत चीजों मैं अच्छा समय स्थापित किया है आपने, लेकिन अफ़सोस की चिंता सचिन के प्रदर्शन की अधिक की जाती है.

Ram Krishna Gautam said...

Bahut Lazwab Mukesh Bhai!!!



"RAM"

Mukesh Kumar Sinha said...

thanx anamika, navin joshi, ramkrishna gautam........:)

durga prasad Mathur said...

आदरणीय सिन्हा जी, बेहतरीन रचना के लिए आपको अनेकों शुभकामनाएं ।