जिंदगी की राहें

जिंदगी की राहें

Followers

Thursday, March 7, 2019

एक बोसा




किसी एक चांदनी रात में
केदारनाथ सिंह के प्रेम से लवरेज शब्दों को
याद करते हुए मैंने भी,
उसके हाथ को
अपने हाथ में लेते हुए सोचा
दुनिया को इस ख़ास हाथ की तरह
गर्म और सुंदर होना चाहिए
पर सोच हाथों से होते हुए
रुकी उसके ठुड्डी पर
और फिर अटकी
उसके रहस्य से गहराते गालों के डिंपल पर
तत्क्षण वो मुस्काई
मैंने भी कह ही दिया
दुनिया क्यों नहीं, इस तरह मुस्कुरा सकती कि
किसी की मुस्कुराहटों पे हो निसार
कहते हुए झाँकता चला गया
फिर उसकी आँखों में
वो बेपनाह गहराई वाली नजरों में
डूबते उतरते, महसूस पाया मैं
उन प्रेमसिक्त आंसुओं में नहीं था नमक
थी तो सिर्फ़ गंगा की पाकीज़गी
क्या दुनिया गंगा सी पवित्र नहीं हो सकती
चलो नहीं हो सकती तो क्या
उसकी आँखों में चमकती एक बूँद जो
पलकों से बस गिरने को थी,
और फिर आ गिरी मेरी उंगली पर
मैंने उस ऊँगली को तिरछी कर
उसमे से झांकते हुए उसको ही देखा
था एक प्रिज्मीय अनुभव
दुनिया सिमट चुकी थी
सतरंगे अहसास से इतर
एक चमकती शख़्सियत के रूप में, मेरे सामने
फिर बुदबुदाते हुए हौले से बोला
दुनिया तुम इसके जैसी बनो
मेरी दुनिया ने भी खुश होकर
मेरे बित्ते भर माथे पर
बस ले ही लिया
'एक बोसा', सिर्फ एक।
~मुकेश~

13 comments:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' said...

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (08-03-2019) को "नारी दुर्गा रूप" (चर्चा अंक-3268) पर भी होगी।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
--
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

Onkar said...

सार्थक रचना

राजा कुमारेन्द्र सिंह सेंगर said...

आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन केन्द्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल को शुभकामनायें : ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है.... आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी..... आभार...

Aman Shrivastav said...
This comment has been removed by the author.
Aman Shrivastav said...
This comment has been removed by the author.
Aman Shrivastav said...
This comment has been removed by the author.
HJA said...

good work keep it up iAMHJA

Rahul said...

बढ़िया

आनन्द शेखावत said...

सुबह 4 बजे उठकर दिनचर्या में ढल जाता हूं
यारों तभी तो में फौजी कहलाता हूं।
पूरी कविता पढ़ने के लिए क्लिक करे-Paathsala24: तभी तो फौजी कहलाता हूँ। https://paathsaala24.blogspot.com/2019/03/blog-post.html?spref=tw

आनन्द शेखावत said...

शानदार श्रीमानJ

BHBUJJWALSAINI said...

Thanks you sharing information.
You can also visit on
How to think positive

How to control anger

123456 said...

Thank you for sharing this article it is very helpful to us but I want to know how to make an American eagle credit card payment

Faiza Rajput said...

Lahore Smart City is going to be the best choice for commercial, investment and residential point of view. The scheme will have everything to attract national and international investors. In return, investors will get high revenue. On the other hand, the housing society is equipped with state of the art facilities. The facilities are just dream of come true for the people of Lahore. Peace, safety and eco-friendly behaviors. Future Development Holding hires and corporate’s with world-class developers, architectures and planners. This Smart City Lahore will have golf clubs and fields designed by experienced and world-recognized designers.